“संसार जिनके पीछे दौड़ता है ! वे मेरे प्रभू कंचनमृग के पीछे दौड़े !”

संसार जिनके पीछे दौड़ता है ! वे मेरे प्रभू कंचनमृग के पीछे दौड़े !
Jai Shree Ram

संसार जिनके पीछे दौड़ता है ! वे मेरे प्रभू कंचनमृग के पीछे दौड़े !

“संसार जिनके पीछे दौड़ता है ! वे मेरे प्रभू कंचनमृग के पीछे दौड़े !” यह एक कथन है जिसे लंका मे सीता ने कही थी ! यानी रामायाण की है ! सीता ने यह बात उस समय कही थी जब रावण सीता को बध करने मे असफल होकर फिर एक महीने का समय देकर चला जाता है ! रावण और मन्दोदरी के चले जाने के बाद सीता रोने लगती है ! उसकी सेविका त्रिजटा से कहती है – त्रिजटा वास्तव मे तुम मेरी सेवा करना चाहती हो तो कुछ लकड़ियॉ लाकर मेरे लिए एक चिता बना दो और उसमे आग लगा दो !




राम के विरह की ज्वाला से चिता की ज्वाला शीतल होगी ! त्रिजटा उसे धीरज बँधाती हुई कहती है कि प्रभु रामचंद्र उसे जल्दी ही उद्धार अवशय करेंगे ! त्रिजटा सीता को विश्राम करने को कहकर स्वयं भी शीता की आज्ञा से सोने के लिए चली जाती है ! जब सीता अकेली रह गई तो वह अपने ह्रदय की आवेग को इस प्रकार प्रकट करती है ! इस समय उसके कारण प्रभु रामचंद्र कि कैसी दशा हुई सोचने लगती है ! वह मन ही मन राम से क्षमा मॉगती है !

सीता अपने को भयानक अपराधी समझती है ! क्योकि वह हठ करके कंचन मृग का चर्म क्यो मॉगा थ? मेरे हठ के कारण लक्ष्मण को रक्षा का भार सौपकर तीव्र गति से कंचन मृग के पीछे दौड़े ! सीता सोचती है – संसार के लोग जिस प्रभु रामचंद्र को पाने के लिए पीछे-पीछे दौड़ते है, उसी प्रभु रामचंद्र कंचन मृग के पीछे दौड़ने लगे – मेरे ही कारण ! ओह प्रभु ! तुम कैसे हो और मै कैसी हुँ ! इस प्रकार की बाते सोचकर सीता अपने को कोसती है !



अगर आपको ये लेख पढ़कर अच्छा लगा है या यहॉ से कुछ भी शिखा है तो कृपया हमारे वेब्साईट को Subscribe करिये ! और FACEBOOK पर LIKE करिये, Niche Comment Box Me Comment करिए ! Aur apne Friends ke Saath Share kariye.

 

You May Also Like




Share with Friends :

Suraj Barai

I am Suraj Barai Founder of HindiMeShiksha.Com Me Hu Ek Hindi Blogger. Mujhe Khusi Tabhi Hota Hai Jab Mere Likhe Gaye Article Se Kisi Ko Help Milta Hai. Thanks.

You may also like...

Leave a Reply

You have to agree to the comment policy.