देश के महापुरुषो मे से एक ये भी थे

श्रीमंत शंकरदेव देश के महापुरुषो मे से एक थे ! वे सूरदास,कबीरदास,तुलसीदास,नानक आदि संत महापुरुषो की कोटि के थे ! उन दिनो असम का समाज अनेक कुरीतियो से ग्रस्त था ! तरह तरह के कर्मकाण्ड प्रचलित थे ! असम उस समय अनेक धर्म सम्प्रदायो मे विभक्त था ! उसी समय यहॉ श्रीमंत शंकरदेव का उदय हुआ !



श्रीमंत शंकरदेव का जन्म सन कब हुआ था ?

श्रीमंत शंकरदेव का जन्म सन 1449 ई. मे नगॉव जिले के अलिपुखरी गॉव मे हुआ था ! शिरोमणि कुसुम्बर भूयॉ उनके पिता और सत्यसंध्या उनकी माता थी ! माता-पिता ने बड़े प्रेम से अपने पुत्र का नाम शंकर रखा था ! बचपन मे ही उनके माता-पिता की मृत्यु हो गई ! इसलिए बालक शंकर का पालन-पोषण उनकी दादी खेरसुती ने किया !

श्रीमंत शंकरदेव कौन थे? हिंन्दी मे


बड़े होने पर शंकर को महेंद्र कंदलि के पाठशाला मे पढ़ने के लिए भेजा गया ! वे बड़े कुशाग्र बुद्धि के थे ! अत: पाठशाला मे जल्दी ही उन्हे व्याकरण
, रामायण, महाभारत ज्योतिष आदि विद्धाओ का ज्ञान प्राप्त हो गया ! पढ़ाई पूरी करने के बाद उनका विवाह सूर्यवती नामक कन्या से कर दिया गया ! सूर्यवती से एक लड़की भी पैदा हुई थी !
अब तक घर-गृह्स्थी का भार भी शंकरदेव पर आ गया था ! परंतु इस काम मे उनका मन न लगा ! इसलिए 32 वर्ष की अवस्था मे वे तीर्थस्थानो के भ्रमण के लिए निकल पड़े ! 12 वर्ष तक उन्होने उत्तर भारत के कई स्थलो का भ्रमन किया ! वे काशी, बद्रीनथ, गया, बृन्दावन, गोकुल, मथुरा आदि गये ! वहॉ उन्होने अनेक विद्वानो से भेंट की ! उनके संपर्क से शंकरदेव को व्यापक धार्मिक बाते जानने को मिली !

श्रीमंत शंकरदेव देश के महापुरुषो मे से एक थे !

देशाटन से लौटकर शंकरदेव ने एकशरण नाम धर्म की स्थापना की ! इसे वैष्णव धर्म भी कहते है ! उन्होने मूर्ति पूजा के स्थान पर विष्णु के नाम जपने या उन्हे गीत रुप मे गने पर अधिक जोर दिया ! उन्होने कई नामघरो एवं सत्रो की स्थापना की ! उन्होने ताली बजाकर ईश्वर का भजन करने के लिए लोगो को प्रेरित किया ! उनके द्वारा स्थापित कई नामघर और सत्र आज भी मौजूद है ! आज भी असम के विभिन्न नामघरो (मंदिरो) मे लोग ताली बजाकर ईश्वर का भजन गाते है !


श्रीमंत शंकरदेव ने अनेक धर्मिक पुस्तको की रचना की ! इनमे कीर्तनग्घोषा सबसे प्रसिद्ध ग्रन्थ है ! वे खुद नाटक लिखते थे और उसका अभिनय करते थे ! इस प्रकार श्रीमंत शंकरदेव ने नाटको के अभिनय तथा नृत्य-संगीत के द्वारा वैष्णव धर्म का व्यापक प्रचार किया ! असम के सभी जातियो के लोग उनके शिष्य बन गए ! सन 1568 ई. 120 वर्षो की आयु मे उनका देहाँत हुआ !
श्रीमंत शंकरदेव एक महान धार्मिक नेता थे ! उन्होने असम के लोगो मे धार्मिक जागरण पैदा की ! असम वासी आज भी उनके महान योगदानो के लिए उन्हे आदर से पूजते है !
अंतिम शब्द :- श्रीमंत शंकरदेव जी का यह लेख एक किताब द्वारा लि गई है !
आप अपना सुझाव Comment मे दिजिये और हमारे इस Website को Subscribe जरुर करिये ताकि New Post की जानकारी आपको Email Inbox मे मिले ! Thanks….
Read More Articles In Hindi


Share with Friends :

Suraj Barai

I am Suraj Barai Founder of HindiMeShiksha.Com Me Hu Ek Hindi Blogger. Mujhe Khusi Tabhi Hota Hai Jab Mere Likhe Gaye Article Se Kisi Ko Help Milta Hai. Thanks.

You may also like...

Leave a Reply

You have to agree to the comment policy.